प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 15 जुलाई को अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी में आएंगे
s
नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 15 जुलाई को अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी में रहेंगे. कोरोना की दूसरी लहर की तबाही के बाद वाराणसी का ये उनका पहला दौरा है. पीएम मोदी इस दौरान रुद्राक्ष का उद्घाटन करेंगे. बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी में कोविड प्रोटोकॉल का पालन करते हुए एक जनसभा को भी संबोधित करेंगे. पीएम मोदी के दौरे से पहले यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने तैयारियों का जायजा लिया और फिर काशी विश्वनाथ मंदिर जाकर महादेव की पूजा अर्चना भी की.कहा जा रहा है कि यूपी चुनाव को लेकर मोदी एजेंडा सेट कर सकते हैं. राज्य में अगले साल की शुरुआत में विधानसभा के चुनाव होने हैं. पंचायत और ब्लॉक प्रमुख चुनाव में बीजेपी की जीत पर पीएम मोदी यूपी की योगी सरकार को बधाई दे चुके हैं. पीएम मोदी पिछली बार देव दीपावली के दिन वाराणसी आए थे. वहीं अब वाराणसी में रुद्राक्ष बनकर तैयार है. इसकी भव्यता की वाराणसी में खूब चर्चा है. जापान की मदद से 186 करोड़ में रुद्राक्ष बना है. ये एक तरह का मॉर्डन कन्वेन्शन सेंटर है.   रुद्राक्ष का उद्घाटन   साल 2015 में जब जापानी पीएम शिंजो आबे यहां पीएम मोदी के साथ आए थे, तब इसकी नींव पड़ी थी. इस बिल्डिंग में रुद्राक्ष के 108 दानों को जोड़ा गया है, जो इसे और खूबसूरत बनाती है. तीन एकड़ में फैले इस कन्वेन्शन सेंटर में ग्राउंड फ्लोर, फर्स्ट फ्लोर से लेकर एक आलीशान हॉल भी है. वियतनाम से मंगाई गई कुर्सियों पर 1200 लोग एक साथ बैठकर कोई कार्यक्रम देख सकते हैं. इसका डिज़ाइन भी जापान की एक कंपनी ओरिएंटल ग्लोबल ने तैयार किया है. पीएम बनने के बाद नरेंद्र मोदी जब जापान गए थे तो उन्होंने कहा था कि काशी को क्योटो बनाएंगे. रुद्राक्ष से ही पीएम 715 करोड़ की योजनाओं का लोकार्पण और 850 करोड़ के प्रोजेक्ट का लोकार्पण भी करेंगे.   बीएचयू कैंपस में संबोधन   इसके बाद पीएम नरेंद्र मोदी बीएचयू कैंपस में एक जनसभा को संबोधित करेंगे. अब सबकी नजर उनके भाषण पर है कि पीएम मोदी आखिरकार वाराणसी से क्या संदेश देते हैं. डीएम कौशलराज शर्मा ने बताया कि इस बार प्रधानमंत्री काशी विश्वनाथ मंदिर नहीं जाएंगे. वे बस 5 घंटे ही वाराणसी में रहेंगे. पिछली बार देव दीपावली के दिन 30 नवंबर को मोदी ने वाराणसी का दौरा किया था. तब उन्होंने गंगा घाट पर दीप जलाए थे और विश्वनाथ मंदिर में पूजा भी की थी. कोरोना की दूसरी लहर में लोग परेशान रहे तब भी पीएम मोदी बनारस के लोगों के साथ लगातार संपर्क में रहे. कोरोना से निपटने में वाराणसी मॉडल की उन्होंने खूब तारीफ की थी.

Share this story