असम की महिला डॉक्टर को 2 बीमारियों से पाया गया संक्रमित
S
डिब्रूगढ़. असम की एक महिला डॉक्टर को एक ही समय पर कोरोना वायरस के दो अलग-अलग स्वरूप से संक्रमित पाया गया है जोकि देश में इस तरह का पहला मामला हो सकता है. भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) के क्षेत्रीय चिकित्सा अनुसंधान केंद्र (आरएमआरसी) के वरिष्ठ वैज्ञानिक डॉ बी बोरकाकोटी ने यहां यह जानकारी दी. कोविड-रोधी टीके की दोनों खुराक लेने के बावजूद डॉक्टर वायरस के अल्फा और डेल्टा दोनों स्वरूपों से संक्रमित पायी गईं. आरएमआरसी की प्रयोगशाला में मई में मरीज में दोहरे संक्रमण का पता चला था.
डॉ बोरकाकोटी ने कहा कि दोहरे संक्रमण के कुछ मामले ब्रिटेन, ब्राजील और पुर्तगाल में सामने आए थे लेकिन इस तरह का मामला भारत में पहले सामने नहीं आया है.टीके की दोनों खुराक लेने के करीब एक महीने बाद महिला और उनके पति कोरोना वायरस के अल्फा स्वरूप से संक्रमित पाए गए थे. दंपति डॉक्टर हैं और कोविड देखाभल केंद्र में तैनात थे.
वरिष्ठ वैज्ञानिक ने कहा, ' हमने दोबारा दंपति के नमूने एकत्र किए और परीक्षण के दूसरे चरण में महिला डॉक्टर में दोहरे संक्रमण की पुन: पुष्टि हुई.' उन्होंने बताया कि महिला डॉक्टर में हल्की गले की खराश, बदन दर्द और अनिद्रा के हल्के लक्षण थे और उन्हें अस्पताल में भर्ती कराने की जरूरत नहीं पड़ी.
डॉ बोरकाकोटी ने कहा कि यह वायरस के किसी भी अन्य मोनो-संक्रमण की तरह ही होगा, चिंता की कोई बात नहीं है कि दोहरे संक्रमण से गंभीर बीमारी हो जाएगी, ऐसा नहीं है. हमने एक महीने तक मामले फॉलो अप लिया और वह बिल्कुल ठीक हैं. वह फुली वैक्सीनेटेड थीं.

Share this story