खाद्य एवं आपूर्ति विभाग के इंस्पेक्टर के खिलाफ सामूहिक दुष्कर्म और हत्या के आरोप में केस दर्ज
K

पिछले साल सितंबर में खाद्य एवं आपूर्ति विभाग के गोदामों में मजदूरी करने वाली एक युवती की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हुई थी। पुलिस ने उस समय धारा 174 के तहत कार्रवाई की थी। अब इस मामले में अदालत के आदेश पर पुलिस ने डीएफएससी विभाग के इंस्पेक्टर नरेंद्र कुमार, वर्कर बलविंद्र, परमजीत कौर और सकीना के खिलाफ सामूहिक दुष्कर्म, हत्या के आरोप में मामला दर्ज किया है।

गुहला थाना प्रभारी सुरेश कुमार ने बताया कि 19 सितंबर 2020 को गुहला थाना क्षेत्र में एक युवती की मौत हो गई थी। जो डीएफएससी विभाग के गोदामों में मजदूरी का काम करती थी। उस समय मृतका की मां के बयान दर्ज किए गए थे।
थाना प्रभारी के मुताबिक, बयान में महिला ने बताया था कि उसकी बेटी ने गोदामों में अनाज की सुरक्षा के लिए रखे गए कीटनाशक दवा को छूने के बाद धोखे से मुंह पर और होठों पर हाथ लगा लिया था। जिस कारण वह बीमार हो गई और उसको कैथल के एक निजी अस्पताल में दाखिल किया गया, जहां उसकी मौत हो गई थी। महिला द्वारा दिए गए उक्त बयान के आधार पर पुलिस ने 20 सितंबर 2020 को 174 सीआरपीसी के तहत डीडीआर दर्ज करते हुए शव का पोस्टमार्टम करवाकर परिजनों को सौंप दिया था। 
घटना के कई दिन बाद बीते माह मृतका की मां ने न्यायालय में याचिका दायर की। जिसमें आरोपियों के खिलाफ उसकी बेटी से सामूहिक दुष्कर्म और जहर देकर हत्या करने का आरोप लगाया था। इस पर शुक्रवार को सुनवाई करते हुए न्यायाधीश देवेंद्र की अदालत ने 156 (3) आदेशों के तहत मामले में आरोपियों के खिलाफ 376 डी और 302 के तहत मामला दर्ज करने के आदेश दिए। जिस पर पुलिस ने डीएफएससी विभाग के इंस्पेक्टर नरेंद्र कुमार, वर्कर बलविंद्र, परमजीत कौर और सकीना के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है।

Share this story