कोरोना संक्रमण को देखते हुए जून में भी नहीं बज पाएगी शहनाई।

कोरोना संक्रमण को देखते हुए जून में भी नहीं बज पाएगी शहनाई।

बोकारो से शेखर की रिपोर्ट


कोरोना लोगों के स्वास्थ्य ही नहीं बजट को भी चोट पहुंचा रहा है खासतौर पर वह तबका जो पूरे साल छोटे-मोटे काम कर परिवार की रोटी का का जुगाड़ करता था शादी विवाह जैसे अवसर पर कमाई कर बच्चों की पढ़ाई लिखाई और दवा पानी का भी इंतजाम कर लेता था।

कोरोना संक्रमण में अब शादी मैं भी खासी परेशानी हो रही है। क्योंकि उस लॉकडाउन वाले दिन ना तो बैंड बज सकता है और ना ही बारात निकाली जा  सकती हैं आपको बताते जाएगी झारखंड सरकार ने शादी को लेकर मैरिज हॉल हो या उत्सव मंडप या बैंड बाजा पर सभी तरह की रोक लगा दी है वहीं झारखंड सरकार ने सिर्फ 5 लोगों के ही साथ शादी मैं आयोजन होने का कहां है लड़का और लड़की पक्ष में काफी नाराजगी अब दिखने लगी है लड़का पक्ष के लोगों ने कहा कि जब तक बैंड बाजा ऑल डीजे नहीं रहेगी तो मजा कैसे आएगा शादी में बिना डांस किए हुए मस्ती का माहौल नहीं बन पाता है

अब तो ऐसा लगता है कि शादी नहीं एक फॉर्मेलिटी है मैं वही शादी के सीजन में कोई बिजनेस ना होते भी मैरिज गार्डन संचालक ट्रेन कुकर और बैंड बाजा कपड़ा दुकानदार लोग सरकार के प्रति काफी गुस्सा देखने को मिल रहा है उनका कहना है कि अगर कोरोनावायरस भीड़ से ही फैलता है तो पहले राजनीतिक पार्टी की गतिविधियां भी बंद कर देनी चाहिए। अब जबकि झारखंड सरकार 1 सप्ताह और लॉकडाउन बढ़ा दी है वैसे जून के महीने मैं शादी करना और भी मुश्किल सो जाएगा। गौरतलब है किजून के महीने में 5,6,19,24,25,26,27,28 यह दिन मैं शादी का शुभ मुहूर्त बनता है

Share this story