पिछले 1 साल से सरकार के सामने अपनी मांगे रख रहे, लेकिन उन मांगों पर कोई निराकरण नही, डॉक्टरों का हड़ताल
पिछले 1 साल से सरकार के सामने अपनी मांगे रख रहे, लेकिन उन मांगों पर कोई निराकरण नही, डॉक्टरों का हड़ताल

हरिश साहू की रिपोर्ट

रायपुर । छत्तीसगढ़ प्रदेश के सबसे बड़े भीमराव अंबेडकर अस्पताल के जूनियर डॉक्टर्स हड़ताल पर चले गए हैं। हड़ताल के दूसरे दिन जूनियर डॉक्टर्स ने एक वीडियो जारी करके हड़ताल की वजह और सरकारी तैयारियों की खामियां गिनाई हैं। जूनियर डॉक्टर्स ने कहा है कि पिछले 1 साल से वे सरकार के सामने अपनी मांगे रख रहे हैं, लेकिन उन मांगों पर कोई निराकरण नही हो पा रहा है।

डॉक्टर्स का कहना है वे हड़ताल करने पर मजबूर हैं, क्योंकि अस्पतालों में हमें कोई भी सुविधा नही दी जा रही है। कोविड में ड्यूटी करते करते साल भर से ज्यादा समय बीत गया। इस दौरान सरकार चाहती तो एक नया कोविड हॉस्पिटल बनाकर उसमें अलग से स्टाफ की नियुक्ति कर सकती थी।

जूडो का आरोप है कि अस्पताल में जूनियर डॉक्टर के लिए ना तो PPE किट उपलब्ध है ना ही ग्लब्ज। अव्यवस्थाओं का आलम ऐसा है कि मरीजों को बेड उपलब्ध नही करा पा रहे हैं। ड्यूटी करते समय 110 जूनियर डॉक्टर कोरोना पॉजिटिव हो चुके हैं। इसके बाद भी हमारी सेवाएं जारी हैं। कोविड ड्यूटी के बाद 7 दिनों के आईशोलेशन में भेजे बगैर अन्य सेवाओं में ड्यूटी लगा दी जाती है, जो कि सुप्रीम कोर्ट के आदेशों की सरासर अवहेलना है, क्योकि ऐसे में कोविड महामारी का आम जनता या अस्पताल में आए लोगो में फैलने का खतरा ज्यादा बढ़ जाता है। ऐसे में जूनियर डॉक्टर्स ने प्रार्थना की है कि उन्हें अगर इस दौरान किसी जूनियर डॉक्टर की मौत होती है तो कोरोना वॉरियर मानकर शहीद का दर्जा दिया जाए और शहीद के समकक्ष सम्मान निधि प्रदान की जाए तथा परिवार की सामाजिक, आर्थिक और नैतिक सुरक्षा का भी ध्यान रखा जाए।

Share this story