रेमडेसिविर की कालाबाजारी की जा रही है। देवांश हॉस्पिटल और सिटी केयर हॉस्पिटल बोकारो में

रेमडेसिविर की कालाबाजारी की जा रही है। देवांश हॉस्पिटल और सिटी केयर हॉस्पिटल बोकारो में

बोकारो से शेखर की रिपोर्ट

जीवन रक्षक दवा रेमडेसिविर से संबंधित जोगणी फिर एक बार बोकारो शहर में पाई गई बोकारो के दो अस्पतालों देवांश हॉस्पिटल और सिटी की हर ने इसके चलते दोनों अस्पताल जांच के लिए नहीं है सरकार ने जिला प्रशासन के दोनों अस्पताल के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करने को कहा है ड्रग इंस्पेक्टर ने बताया कि वह मुख्यालय से कुछ और दिशा निर्देश की प्रतीक्षा कर रहे हैं जिसके बाद ड्रग एंड कॉस्मेटिक्स एक्ट 1940 अंतर्गत मामला दर्ज किया जा सकता है उपायुक्त राजेश सिंह ने सिविल सर्जन डॉ एके पाठक को उक्त दोनों अस्पतालों के खिलाफ आवश्यक कार्रवाई करने का आदेश दिया है।

आपको बताते जाएगी बोकारो शहर में जीवन रक्षा दवा रेमदेसीविर को लेकर इससे पहले भी कई हॉस्पिटलों में छापा पड़ चुका है कोरोना काल में दवा की कालाबाजारी धरले से फल-फूल रही है बताया जा रहा है कि कुछ हफ्ते पहले सरकार द्वारा रेमडेसिविर का आवंटन निजी अस्पताल को गंभीर कोरोना के मरीजों के इलाज के लिए किया गया था। रेमडेसिविर से संबंधित कालाबाजारी और गड़बड़ी की शिकायतें राज्य सरकार को मिलने लगी सरकार ने प्रत्येक जिले की दवा निर्धनों को उन सभी निजी अस्पतालों को जांचने का आदेश दिया जिनको रेमडेसिविर अलॉट हुआ था। कुछ अस्पतालों द्वारा रेमडेसिविर का वास्तविक उपयोग कहां किया गया था इसको पता लगा कर रिपोर्ट जमा करने को कहा गया था।

वही ड्रग इंस्पेक्टर ने आईटीआई मोर चौक स्थित देवांश हॉस्पिटल और चेक पोस्ट के सिटी केयर अस्पताल में रेमडेसिविर को लेकर गड़बड़ी पाई और रिपोर्ट मुख्यालय भेजा जिसके बाद राज्य सरकार ने तुरंत दोनों स्थानों के खिलाफ कार्रवाई करने का निर्देश दिया है ड्रग इंस्पेक्टर ने बताया कि उन दोनों अस्पतालों में  रेमडेसिविर उसके आवंटन की संख्या  काफी कम पाया गय एयर के पास 90 रेमडेसिविर का आवंटन था लेकिन उसने 32 का ही रिकॉर्ड दिखाया

Share this story