बार-बार फेफड़े का सिटी स्कैन होने से कैंसर का खतरा बढ़ जाता है

बार-बार फेफड़े का सिटी स्कैन होने से कैंसर का खतरा बढ़ जाता है

बोकारो से संगीता की रिपोर्ट


बोकारो में कोरोना को लेकर अब सीटी स्कैन के सेंटरों में लोगों की भीड़ देखी जा रही है  ऐसा  हाल है कि लोग अब कोरोनावायरस के बाद चेस्ट का सिटी स्कैन कराने में भी परहेज नहीं कर रहे हैं और पूरी तरह से तसल्ली करना चाहते हैं इस चक्कर में एक ऐसी बीमारी को नियंत्रण दे रहे हैं जो उनके लिए घातक साबित हो सकता है बताया जा रहा है कि बोकारो के सेक्टर 4 सिटी सेंटर में लोगों का जमावड़ा सिटी स्कैन सेंटर में देखा गया वहां लोगों की भारी भीड़ एकत्रित होकर सीटी स्कैन करवाने को लेकर अपनी बारी का इंतजार करते हुए देखे गए कोरोनावायरस फेफड़ों को संक्रमित कर रहा है इसी वजह से अब लोग सीटी स्कैन कराने के लिए जाने लगे हैं इसी भय से और लोग सीटी स्कैन कराने तक में पीछे नहीं हट रहे हैं क्योंकि कई ऐसे मामले देखे गए हैं कि जब मरीज गंभीर परिस्थिति में होता है और उसका सिटी स्कैन कराया जाता है तो 10 से 15 परसेंटेज स्टेटस इफेक्ट बताए जाते हैं ऐसे में लोग पहले ही अपने फेफड़ों का चेकअप कराना उचित समझते हैं और यह देखने की कोशिश कर रहे हैं कि उनके फेफड़े सही सलामत है कि नहीं

वही जानकारी बताते है कि बार-बार फेफड़े का सिटी स्कैन होने से कैंसर का खतरा बढ़ जाता है ऐसे में लोगों को डॉक्टर की सलाह के बाद ही सिटी स्कैन कर आना चाहिए बोकारो के सिविल सर्जन ने कहा कि ऐसे में लोगों के लिए खतरा भी उत्पन्न कर सकता है क्योंकि इसका रेडिएशन काफी खतरनाक होता है एसिंप्टोमेटिक वाले को सीटी स्कैन कराने की जरूरत नहीं है उन्होंने कहा कि लोगों के ज्यादा पैनिक होने की जरूरत नहीं है और ना ही डरने की जरूरत है लोगों को जागरूक करने की जरूरत है और नियमित रूप से मास्क लगाकर सोशल डिस्टेंस का पालन करते हुए रुटीन चेकअप कराना चाहिए

Share this story