तीसरी लहर को लेकर DM ने निजी चिकित्सालयों (बच्चों वाले) के चिकित्सकों के साथ कि बैठक
तीसरी लहर को लेकर DM ने निजी चिकित्सालयों (बच्चों वाले) के चिकित्सकों के साथ कि बैठक

अमर नाथ की रिपोर्ट
अयोध्या/उत्तर प्रदेश

जिलाधिकारी  अनुज कुमार झा ने कोविड-19 वायरस की तीसरी लहर आने की आशंकाओं व इससे बच्चों के अधिक संख्या में प्रभावित होने की संभावनाओं के दृष्टिगत जनपद में बच्चों से संबंधित चिकित्सीय सुविधाओं को पुख्ता करने हेतु प्राइवेट चिल्ड्रेन चिकित्सालयों के चिकित्सकों/संचालकों के साथ बैठक की तथा सभी को उक्त आशंका के दृष्टिगत अभी से तैयारी प्रारंभ करने के दिए निर्देश।बैठक में जिलाधिकारी ने कहा कि बहुत से लोगों द्वारा कोविड-19 के तीसरी लहर की आने की संभावना व्यक्त की जा रही है साथ ही इसमें बच्चों के अधिक प्रभावित होने की संभावना भी व्यक्त की जा रही है। ऐसे में जनपद में आवश्यकता पड़ने पर बच्चों को बेहतर से बेहतर चिकित्सीय सुविधाओं की उपलब्धता सुनिश्चित करने हेतु जिला प्रशासन एवं स्वास्थ्य विभाग द्वारा अभी से तैयारियां प्रारंभ कर दी गई हैं जिसके अंतर्गत राजर्षि दशरथ स्वशासी राज्य चिकित्सा महाविद्यालय दर्शन नगर में बच्चों के इलाज हेतु 100 पीआईसीयू बेड, जिला चिकित्सालय व जिला महिला चिकित्सालय में 20-20 पीआईसीयू बेडों व इससे संबंधित अन्य चिकित्सीय सुविधाओं की व्यवस्था की जा रही है। इसी के साथ ही आगामी दो माह के अंदर जनपद के 8 चिकित्सालय में स्वीकृत/निर्माणाधीन ऑक्सीजन प्लांट भी संचालित कर देने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है।
 
इस अवसर पर जिलाधिकारी ने बैठक में उपस्थित समस्त चिकित्सकों से बच्चों के बेहतर इलाज हेतु अपने अपने चिकित्सालयों में अभी से कोविड-19 से जुड़ी हुई सभी आवश्यक चिकित्सीय सुविधाओं उपकरणों यथा ऑक्सीजन, बेड व पर्याप्त स्टाफ आदि की व्यवस्था अभी से प्रारंभ करने की अपील की। जिससे यदि कोविड-19 की तीसरी लहर आती है तो आवश्यकता पड़ने पर बार बच्चों के इलाज हेतु प्राइवेट चिल्ड्रेन चिकित्सालयों का सहयोग लिया जा सके। इस अवसर पर उपस्थित सभी प्राइवेट चिल्ड्रन चिकित्सालयों के चिकित्सकों/ प्रबंधकों द्वारा जिला प्रशासन एवं स्वास्थ्य विभाग का पूर्ण सहयोग करने हेतु आश्वस्त किया गया। बैठक में जिलाधिकारी श्री झा द्वारा कोविड-19 की दूसरी लहर के दौरान नागरिकों को बेहतर चिकित्सीय सुविधाएं उपलब्ध कराने में प्राइवेट चिकित्सालयों के सहयोग की भी सराहना की गई।        

बैठक में मुख्य विकास अधिकारी श्रीमती अनीता यादव, मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ घनश्याम सिंह, यश्लोक हॉस्पिटल से डॉक्टर चितरंजन वर्मा, चिल्ड्रन हॉस्पिटल रिकाबगंज से डॉक्टर रविकांत वर्मा, सृजन चाइल्ड केयर सेंटर से डॉ एस0 बी0 सिंह, सिटी चाइल्ड केयर सेंटर से डॉ आर0सी0 अग्रवाल, हैप्पी नर्सिंग होम से डॉक्टर महेश सुल्तानी, विमला चिल्ड्रन हॉस्पिटल से डॉक्टर के0 के0 तिवारी तथा कौशल चाइल्ड केयर सेंटर से डॉक्टर के0एन0 कौशल उपस्थित रहे।

Share this story