वट सावित्री पर्व पर बरगद का पौधा रोपने का लिया गया संकल्प

वट सावित्री पर्व पर बरगद का पौधा रोपने का लिया गया संकल्प

राम कैलाश पटेल की रिपोर्ट

उत्तर प्रदेश के अमेठी में गुरुवार को सानंद समय न्यूज पेपर व समाचार केंसरी के सम्पादक शिवपूजन मिश्रा व उनकी टीम द्वारा वट सावित्री पर्व के अवसर पर बरगद का पौधा रोपने का संकल्प लिया गया। उन्होंने बताया कि समाज का हर वर्ग इस मुहिम में शामिल होगा। व्रत के बाद सभी टीम के सदस्य एक-एक पीपल का वृक्ष रोपित करेंगे, जिससे प्रदूषण मुक्त परिवेश बनाने में मदद मिलेगी। मौजूदा वक्त में ऑक्सिजन की बेतहाशा चर्चा के बीच सम्पादक शिवपूजन मिश्रा का यह संकल्प समाज के अन्य लोगों को भी प्रेरित करेगा।
सम्पादक शिवपूजन मिश्रा ने कहा कि कोविड-19 के इस दौर में ऑक्सीजन के महत्व और प्रदूषण मुक्त परिवेश की आवश्यकता से सभी को अवगत कराया जाएगा। उन्होंने बताया कि वट सावित्री व्रत के अवसर पर टीम के सभी सदस्यों ने संकल्प लिया है एक-एक बरगद का पौधा रोपित करेंगे। अमेठी के रहने वाली शिवपूजन मिश्रा ,आशुतोष तिवारी कुलदीप तिवारी ,गौरव तिवारी ,भास्कर सिंह ने बताया कि राष्ट्रीय वृक्ष का दर्जा प्राप्त बरगद के पेड़ का धार्मिक महत्व भी है

गांवों में भी कम हो रहे हैं बरगद के पेड़

उन्होंने कहा कि ज्येष्ठ मास की अमावस्या को महिलाएं वट सावित्री पूजन करती हैं। वहीं बरगद के वृक्ष की संख्या धीरे-धीरे कम होती जा रही है। कस्बाई, नगरों के साथ-साथ गांव में भी इक्का-दुक्का वृक्ष ही बचे हैं। ऐसे में प्रचुर मात्रा में ऑक्सिजन के लिए हमें बरगद का पौधा रोपना चाहिए। उन्होंने कहा कि बरगद प्राकृतिक ऑक्सिजन का खजाना है। साथ ही पीपल और बरगद हमारी आस्था-संस्कृति का केंद्र हैं। ऐसे में वट वृक्ष का पूजन कर बरगद का पौधा रोपा जाएगा।

‌‍उन्होंने कहा कि वृक्ष हमारे लिए अमूल्य धरोहर हैं। बरगद का पेड़ रोपित करने के साथ ही दूसरे लोगों को भी रोपित करने के लिए प्रेरित किया जाएगा। कोरोना काल में ऑक्सीजन के संकट ने वृक्षों का महत्व हम सबको बता दिया है इसलिए वृक्ष लगाना हम सबके लिए बहुत जरूरी है। उन्होंने कहा कि प्राणवायु देने वाला बरगद हम सबके जीवन के लिए महत्वपूर्ण है। इस मुहिम में हर किसी को आगे आना चाहिए

Share this story