सुलतानपुर : पुलिस कस्टडी में युवक की मौत, परिवारीजनों ने लगाया प्रताड़ना का आरोप

सुलतानपुर : पुलिस कस्टडी में युवक की मौत, परिवारीजनों ने लगाया प्रताड़ना का आरोप

सुलतानपुर लड़की भगा ले जाने के मामले में हिरासत में लिए गए एक युवक की कुड़वार थाने में पुलिस कस्टडी में मौत हो गई। सूचना मिलते ही पुलिस कप्तान डॉ विपिन कुमार मिश्र के साथ अन्य पुलिस अधिकारी मौके पर पहुंच गए। शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है। मृतक की पहचान राजेश कुमार कोरी निवासी जगदीशपुर परसीपुर के रूप में हुई है। वहीं परिवारीजनों ने पुलिस पर युवक पर प्रताड़ना करने का आरोप लगाया है।

मृतक के भाई संतोष कुमार ने बताया कि उनका गांव की एक लड़की से प्रेम प्रसंग चल रहा था। चार दिन पहले वह उसे लेकर चले गए थे। मंगलवार को पुलिस घरवालों को लेकर थाने चली गई और दबाव बनाया गया कि जब तक राजेश को हाजिर नहीं किया जाएगा तुम लोगों को छोड़ा नहीं जाएगा। किसी तरह से राजेश को खोजकर पुलिस के हवाले किया गया।पुलिस ने उसे लॉकअप में बंद किया गया था। गुरुवार की सुबह करीब 11 बजे राजेश की पत्नी ज्योति थाने पर खाना लेकर गई थी। तब तक वह ठीक था। खाना खिलाने के बाद वह वापस घर चली आई। दोपहर में सूचना दी गई कि राजेश की तबियत खराब है और उन्हें जिला अस्पताल ले जाया गया है। अस्पताल पहुंचने पर पता चला कि राजेश की मौत हो चुकी है।

संतोष ने यह भी बताया कि उनके भाई ने लोवर पहना था लेकिन शव से वह गायब है। पुलिस कस्टडी में मौत के आरोप पर पुलिस सफाई देने में लगी है। ज्ञात रहे कि इसी थाने में ही दिसंबर 2019 में भंडरा परसुरामपुर निवासी महेंद्र निषाद की भी मौत हो गई थी। महेंद्र का पत्नी से अक्सर झगड़ा होता रहता था। एक दिन झगड़े के बाद महेंद्र की पत्नी मायके चली गई थी, जिसकी शिकायत उसने थाने पर की थी, जिसके बाद पुलिस महेंद्र को थाने उठा ले गई। देर शाम उसकी हालत बिगड़ी तो ज़िला अस्पताल लाया गया, जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। परिवारजन ने थाने में पुलिस की पिटाई से मौत का आरोप लगाया था।

Share this story